Rahat Indori famous ghazal in Hindi-मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं

Rahat Indori ghazal in Hindi मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं…

3 Comments

motivational poem | चलना हमारा काम है | शिव मंगल सिहं ‘सुमन’

   चलना हमारा काम है ।    Chalana hamara kam haiचलना हमारा काम है -शिव मंगल सिहं 'सूमन'  गति प्रबल पैरों में भरीफिर क्यों रहूं दर दर खडाजब आज मेरे सामनेहै रास्ता इतना पडाजब तक न मंजिल पा सकूँ,तब तक मुझे…

0 Comments