Advertisement

Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage

 






———-इस लेख में———–




1 ) शिशुओं पर तेल मालिश के प्रभाव |

2) मालिश तेल के चयन में ध्यान रखने योग्य बातें |

3) बच्चे की मालिश करते समय किन किन बातों का विशेष ध्यान रखना है |

4) शिशुओं के लिए उपयुक्त मसाज ऑयल |

___________________________________________


आज का हमारा ये आर्टिकल बच्चो की सेहत से संबंधित है | इस आर्टिकल में बच्चों की मालिश से संबंधित लगभग सभी आवश्यक बातों पर चर्चा की गई है |(Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage)
Advertisement

इस पोस्ट में, saffroncolour.com आपको बताता है कि क्या तेल मालिश शिशुओं के लिए प्रभावी है, आप किन तेलों का उपयोग कर सकते हैं, और बच्चे की मालिश करते समय किन किन बातों का ध्यान रखें ।

बच्चों की सेहत से संबंधित शोधों ने यह भी संकेत दिया है कि बच्चों की मालिश बिना तेल से करने की अपेक्षा तेल के साथ करना अधिक उपयोगी है

मालिश को स्पर्श चिकित्सा में शामिल किया गया है , कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि मालिश की प्रक्रिया वजन बढ़ाने, बेहतर नींद , बेहतर पाचन , मजबूत मांसपेशियों और भावनात्मक बंधन से जुड़ी है|
तो चलिए अब हम विस्तार से इन सभी बिंदुओं पर चर्चा कर लेते हैं |

अपनी बात को आगे बढ़ाने से पहले मैं आप को ये बता देना चाहती हूं कि मैं एक 4 साल के प्यारे बेटे की माँ हूं ,और इस आर्टिकल को लिखने में मैंने अपने व्यक्तिगत अनुभव का भी सहारा लिया है |


शिशुओ पर तेल मालिश के प्रभाव

मालिश बच्चों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित है और अगर इसे उचित रूप से किया जाए तो कोई हानिकारक प्रभाव नहीं होते हैं।

लेकिन अगर आपके बच्चे को कोई अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या है, तो बच्चे के लिए तेल मालिश करने से पहले बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लें।

बाल रोग विशेषज्ञ बच्चे की विशिष्ट जरूरतों को पूरा करने के लिए मालिश करने का सुरक्षित और उचित तरीका निर्धारित करने में मदद कर सकता है

बच्चों की इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं

मालिश तेल के चयन में ध्यान रखने योग्य बातें


मालिश तेल के गलत चयन से शिशुओं की त्वचा पर चकत्ते और खुजली जैसे प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकते हैं। इसलिए , अपने बच्चे के लिए उपयुक्त तेल चुनने में पूरी सावधानी रखें|

गर्म और उमस भरे मौसम में गाढ़े मालिश वाले तेल का उपयोग उचित नहीं है, क्योंकि इससे त्वचा के छिद्र बंद हो सकते हैं |

तेल में मॉइस्चराइजिंग गुण होने चाहिए, जो बच्चे की त्वचा में अवशोषित होने पर काम करना शुरू कर देगा।

तेल गैर-एलर्जेनिक और रसायनों से मुक्त होना चाहिए। इसलिए, हर्बल तेलों का चयन अच्छा हो सकता है, बशर्ते आपने उनकी सुरक्षा और प्रभावकारिता की जाँच की हो।

प्राकृतिक पौधों के तेलों की सूची में वनस्पति तेल और एसेंशियल ऑयल दोनों शामिल हैं। एसेंशियल ऑयल का उपयोग सीधे त्वचा पर नहीं किया जा सकता है और उन्हें करियर ऑयल की आवश्यकता होती है। करियर ऑयल के साथ एसेंशियल ऑयल को मिक्स करने से पहले इनके सही अनुपात की जानकारी अवश्य प्राप्त कर लें

तेल में हल्की सुगंध होनी चाहिए।अपने बच्चे के लिए मालिश के तेल का चयन करने के लिए उपरोक्त बिंदुओं पर विचार करें, और मालिश तेल खरीदने से पहले अपने बाल रोग विशेषज्ञ के साथ विस्तार से चर्चा करें या अन्य श्रोतो से अवश्यक जानकारी अवश्य प्राप्त कर लें |

सही प्रकार के तेल का चयन करने के अलावा, आपको यह भी सीखना चाहिए कि शिशु की सुरक्षित तरीके से मालिश कैसे करें। (Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage)

नवजात के मालिश की सटीक पद्धति का वर्णन करने वाले कोई निश्चित दिशानिर्देश नहीं हैं। हालांकि, अनुचित तकनीक बच्चे के लिए हानिकारक हो सकती है ।


बच्चे की मालिश करते समय किन किन बातों का विशेष ध्यान रखना है

आपके मन में कई विचार हो सकते हैं कि अपने बच्चे की मालिश कैसे करें। बच्चे की मालिश करने से पहले आप निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें।

अपने बच्चे की त्वचा पर कोई भी तेल लगाने से पहले, बस उसके हाथ पर थोड़ा सा लगाएँ और कुछ घंटों बाद उसके प्रभाव को देखें कि यह उसकी त्वचा के अनुकूल है या नहीं। अगर आपके बच्चे की त्वचा पर रैशेज हो गए है, तो उस तेल के इस्तेमाल से बचें। ऐसा आप को केवल किसी तेल के पहली बार इस्तेमाल के समय करना है

मालिश शुरू करने से पहले एक अनुकूल वातावरण स्थापित करें। हल्की रोशनी, गर्म तापमान और कम शोर स्तर वाला कमरा आदर्श है।

कभी कभी मालिश के दौरान बच्चों में उल्टी की समस्या हो जाती है , इससे बचने के लिए उचित रूप से फ़ीड या भोजन के 45 मिनट से एक घंटे बाद मालिश की जानी चाहिए|

इसमें सिर और गर्दन से लेकर धड़ और छोर तक पूरे शरीर को शामिल करें ।

मालिश के दौरान उंगलियों के साथ एक फर्म स्ट्रोक का उपयोग किया जाना चाहिए। ज्यादा दबाव डालने से बचें। अपने बच्चे को खरोंच से बचाने के लिए अपने नेल्स की कटिंग और फाइलिंग नियमित रूप से अवश्य करें ।

मालिश तभी करें जब आपका शिशु आराम महसूस कर रहा हो। बच्चे का आराम स्तर अधिक महत्वपूर्ण है।

आमतौर पर बच्चे मालिश के बाद सो जाते हैं, इसलिए अपने बच्चे के सोने के चक्र पर नजर रखें और उसी के अनुसार मालिश करने का समय निर्धारित करें।

इसके बाद, हम विभिन्न मालिश तेलों ( Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage)के बारे में बात करते हैं जिन्हें आप बच्चे के लिए उपयोग करने पर विचार कर सकते हैं।

बच्चे रोते क्यों हैं ?

शिशुओं के लिए उपयुक्त मसाज ऑयल

शिशुओं के लिए मालिश लंबे समय से चलन में है और इसे महत्वपूर्ण भी माना जाता है। फिर भी, अधिकांश उपलब्ध साक्ष्य पद्धतिगत रूप से सीमित हैं, इस क्षेत्र में और शोध की मांग है।

हालाँकि, यदि आप बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद बच्चे की मालिश करना चाहते हैं, तो यहाँ उन तेलों की सूची दी गई है जिन पर आप विचार कर सकते हैं।


1. नारियल का तेल (Coconut Oil)


नारियल तेल की तासीर ठंडी होती है और यह गर्म और आर्द्र जलवायु के दौरान उपयोग के लिए उपयुक्त है।

नारियल तेल लाइट वेट होता है जिसके कारण यह मालिश के दौरान आसानी से त्वचा में समा जाता है। इसमें विटामिन-ई जैसे पोषक तत्व और पॉलीफेनोल्स जैसे बायोएक्टिव यौगिक होते हैं, जो त्वचा को पोषण देने में मदद करते हैं।

तेल में जीवाणुरोधी और एंटिफंगल गुण भी होते हैं जो एक्जिमा, चकत्ते, रूखी त्वचा के इलाज में सहायता करते हैं।

शिशुओं की मालिश करने के लिए दोनो ही प्रकार के नारियल तेल आजमाए जा सकते हैं।लेकिन मेरी सलाह है कि आप वर्जिन कोकोनट ऑयल का ही उपयोग करें|

check price



2. सरसों का तेल (Mustard Oil)


सरसों का तेल आमतौर पर खाना पकाने के लिए उपयोग किया जाता है, लेकिन कुछ समुदायों में इसका उपयोग मालिश तेल के रूप में भी किया जाता है।

कुछ शोध अध्ययनों से पता चलता है कि मालिश के लिए सरसों के तेल के उपयोग से थर्मोरेग्यूलेशन, त्वचा की बनावट में सुधार हो सकता है ।

फिर भी, हाल के साक्ष्यों से पता चलता है कि इस से हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं, विशेष रूप से समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में या जिनकी त्वचा अधिक सेंसिटिव है उनके लिए |

Check Price




3. जैतून का तेल (Olive Oil )


नवजात मालिश के लिए जैतून के तेल की सिफारिश की जाती है क्योंकि यह त्वचा के मॉइश्चर में सुधार के लिए जाना जाता है।

फिर भी, जैतून के तेल में लगभग 55-85% ओलिक एसिड होता है और इसे त्वचा के रोम छिद्रों को बाधित करने की क्षमता माना जाता है, जिससे सूखापन होता है ।

इसलिए, यदि आपके बच्चे की त्वचा संवेदनशील है, तो मालिश के लिए जैतून के तेल का उपयोग करने से पहले बाल रोग विशेषज्ञ या त्वचा विशेषज्ञ से बात करें।

यदि आपके बच्चे की त्वचा संवेदनशील है और एक्जिमा या सूखापन की संभावना है, तो जैतून का तेल या उच्च ओलिक सूरजमुखी के बीज के तेल जैसे वनस्पति तेलों का उपयोग न करें।

ओलिक एसिड युक्त तेल आपके बच्चे की त्वचा को अधिक सेंसटिव और शुष्क बनाते हैं। इसके बजाय, लिनोलिक एसिड युक्त वनस्पति तेलों की तलाश करें।

हालांकि, बच्चे की मालिश के लिए तेल का चयन करने से पहले आवश्यक जानकारी प्राप्त करना बुद्धिमानी है।

Check Price


4. बादाम का तेल (Almond Oil)


बादाम के तेल में विटीमिन ई भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसलिए बादाम के तेल का उपयोग रंग और त्वचा की टोन में सुधार करने के लिए किया जाता है।

बादाम का तेल यूवी विकिरण से होने वाली संरचनात्मक क्षति को रोकने के लिए भी उपयोगी है। हालांकि, पौधों के तेलों पर पिछले शोध से पता चला है कि बादाम का तेल ऊपर से लगाया जाता है, और यह ज्यादातर त्वचा की सतह पर ही रहता है ।

Check Price

Advertisement

5. कैमोमाइल तेल (Chamomile Oil)


कैमोमाइल तेल अरोमाथेरेपी के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला एक essential oil है, क्योंकि यह चिकित्सीय लाभ प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

एफडीए ने कैमोमाइल को जीआरएएस (आमतौर पर सुरक्षित के रूप में मान्यता प्राप्त) के रूप में माना है।

शिशुओं पर किए गए एक शोध अध्ययन से पता चला है कि कैमोमाइल तेल के प्रयोग में शिशु के पेट के दर्द के लक्षणों को कम करने की क्षमता पायी जाती है।


6. सूरजमुखी का तेल (Sunflower Oil)

एक शोध अध्ययन में दावा किया गया है कि सूरजमुखी के बीज के तेल का प्रयोग समय से पहले जन्म के समय बहुत कम वजन वाले शिशुओं में नोसोकोमियल (hospital-acquired infections) संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करता है।

लेकिन कुछ शोध इसके विपरीत भी वर्णन करते , तो यह निर्धारित करने के लिए अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करें या आप अपनी सूझ बूझ से भी यह निर्धारित कर सकती हैं कि यह आपके बच्चे के लिए अच्छा है या नहीं।


Check Price


7. तिल का तेल (Sesame Oil)


एक शोध अध्ययन से पता चला है कि शैशवावस्था में मालिश से बच्चे की ग्रोथ अच्छी होती है और नींद भी अच्छी आती है, खासकर जब तिल के तेल का उपयोग किया जाता है।

तिल के तेल में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं और इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटीपीयरेटिक गुण होते हैं ।

तिल के तेल से मालिश करने से सूजन और दर्द में भी आराम मिल जाता है। यह सूर्य के यूवी विकिरण से बचाने में भी मदद कर सकता है ।

Check Price


8. टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil)


यह एक एसेंशियल ऑयल है और इसका उपयोग कुछ समुदायों में शिशुओं के लिए किया जाता है, हालांकि आवश्यक तेलों में विविध मात्रा में रसायन होते हैं और इनका सावधानी के साथ उपयोग किया जाना चाहिए

क्योंकि इनमें से कुछ रसायन बच्चे की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं अगर इसे सही मात्रा में कैरियर ऑयल के साथ मिला कर नही प्रयोग किया गया |

Check Price



9. कैलेंडुला तेल (Calendula Oil)


कैलेंडुला तेल को नहाने के बाद सुरक्षित रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि यह त्वचा पर अच्छा प्रभाव डालने के लिए जाना जाता है।

इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो डायपर रैशेज, सूजन वाली त्वचा के घावों और त्वचा की अन्य समस्याओं के इलाज में प्रभावी हो सकते हैं

Check Price




10. अरंडी का तेल (Castor Oil)


बच्चे की मालिश के लिए अरंडी के तेल का इस्तेमाल काफी हद तक उचित प्रतीत नही होता है।

चूंकि इस तेल की कंसिस्टेंसी अत्यंत गाढ़ी होती है, इसलिए इसे आमतौर पर पूर्व-स्नान मालिश तेल के रूप में प्रयोग किया जाता है।

अगर आप इसका इस्तेमाल कर रहे हैं तो सावधान रहें कि आंखों और मुंह के आसपास तेल न लगाएं। बच्चों में बालों के विकास के लिए भी अरंडी के तेल का उपयोग किया जाता है।

हालांकि, बाल चिकित्सा परामर्श के बाद बच्चों के लिए अरंडी के तेल का उपयोग करना बुद्धिमानी है।

Check Price



मालिश एक बेहतरीन तकनीक है जो आपको बच्चे के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ने में मदद करती है। आपके द्वारा चुनी गई मालिश का प्रकार या तकनीक आपके शिशु को तेल मालिश से होने वाले लाभों को भी निर्धारित कर सकती है।

अपने बच्चे की मालिश के लिए तेल चुनने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें – क्योंकि यह उनके लिए उपयुक्त होना चाहिए और इसका कोई हानिकारक प्रभाव नहीं होना चाहिए।
इस आर्टिकल में हमने Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage से संबंधित सभी महत्वपूर्ण बातों पर चर्चा की । मैंने यहां उन सभी मसाज तेलों के बार में आप को एक संक्षिप्त परिचय दिया जिनको हमारे देश में भिन्न भिन्न समुदायों में बच्चों के मसाज के लिए प्रयोग में लाया जाता है।

लेकिन अगर मैं अपनी पसंद की बात करूं तो मैंने अपने बेबी के लिए गर्मियों में कोकोनट ऑयल और सर्दियों में जैतून ऑयल का इस्तेमाल किया है ।

आप ने अपने बच्चे की मालिश के लिए किस तेल का इस्तेमाल किया है? कमेंट में अपना अनुभव जरूर साझा करें |


Health से संबंधित आर्टिकल्स लिखने से पहले saffroncolour.com आवश्यक रीसर्च और रेफरेंस का सहारा लेता है । नीचे दिया गया रेफरेंस Top 10 Best Baby Massage Oils In Hindi : All About Baby Massage से संबंधित है ।

Sandipan Dhar et al.; Oil massage in babies: Indian perspectives; Indian Journal of Pediatric Dermatology (2013)

thanks & happy reading