You are currently viewing यह नारीपन -By Harivanshrai Bachchan

यह नारीपन -By Harivanshrai Bachchan

yah naripan by harivanshrai bachchan
यह नारीपन 

                                                                `

Advertisement
यह नारीपन ।
तू बंद किए अपने किवाड़ 
बैठा करता है इंतजार ,कोई आए
तेरा दरवाजा खटखटाए ,
मिलने को बाहें फैलाए ,
तुझसे हमदर्दी दिखलायें ,
आंसू पोछे औ कहे, हाय, तू जग में कितना दुखी दीन ,
yah nareepan by harivanshrai bachchan
यह नारीपन
         
ओ अवचेतन ! 
तू अपने मन की नारी को,
अस्वाभाविक बीमारी को,
 उठ दूर हटा,
तू अपने मन का पुरुष जगा,
जो, बे-शर्माए बाहर जाए,
शोर मचाए ,हँसे, हसाँये,
छेड़े उनको जो बैठे हैं , मुह लटकाए ,उदासीन ।

Leave a Reply