जो तुम आ जाते एक बार -Mahadevi verma

jo tum aajate ek bar by mahadevi verma
Mahadevi verma

         

                                                      
 महादेवी वर्मा
                                                                        
Advertisement
जो तुम आ जाते एक बार
कितनी करुणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग
आंसू लेते पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार
हंस उठते पल में आंध्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग
आंखें देती वर्चस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार

This Post Has 4 Comments

Leave a Reply